Surya Namaskar Ke Fayde Hindi Mai

सूर्य नमस्कार के लाभ

ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से आप इस सरल और प्रभावी व्यायाम को अपनी दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं। Surya Namaskar Ke Fayde सूर्य नमस्कार केवल आपके शरीर को खींचने और खोलने के बारे में नहीं है। यह शरीर में कई लाभकारी शारीरिक और आध्यात्मिक प्रक्रियाओं को ट्रिगर करने का एक तरीका है।

कम रोग जोखिम (Surya Namaskar Ke Fayde)

कैंसर और मधुमेह पर किए गए कई अध्ययनों में अष्टांग विनयसा के अभ्यास और कैंसर की रोकथाम के बीच एक सीधा संबंध पाया गया है। नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट में प्रकाशित शोध के अनुसार, लंबे समय तक योगाभ्यास करने से कोलन कैंसर का खतरा 40% तक कम हो सकता है। आपकी इंसुलिन संवेदनशीलता को बढ़ाता है और रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है, जिससे आपके शरीर को शर्करा युक्त कैंसर कोशिकाओं का प्रतिरोध करने में मदद मिलती है। उच्च रक्तचाप के जोखिम को कम करता है।

जिस तरह योग सूजन को कम करने में मदद करता है, उसी तरह यह उच्च रक्तचाप के जोखिम को भी 30% से अधिक कम कर सकता है। ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने में मदद करता है। वैज्ञानिकों ने पाया है कि सप्ताह में औसतन 6 से 8 घंटे वर्कआउट करने से ऊर्जा के स्तर में सुधार हो सकता है, चयापचय को बढ़ावा मिल सकता है और समग्र सहनशक्ति बढ़ सकती है। हृदय रोग, मधुमेह, उच्च रक्तचाप और मोटापे को रोकने में मदद करता है।

surya namaskar ke fayde
surya namaskar ke fayde

सूजन कम करें

सूजन शरीर की असामान्य स्थिति की ओर ले जाती है। सूजन के लक्षण लालिमा, सूजन, दर्द और यहां तक ​​कि आंतरिक अंग भी सूजन के परिणामस्वरूप खराब हो सकते हैं। इस अवस्था से छुटकारा पाने के लिए सूजन को कम करना जरूरी है। सूर्य नमस्कार सूजन को कम करने और हमारे शरीर के कामकाज को विनियमित करने में भी मदद करता है। स्वस्थ हृदय और परिसंचरण हमारे शरीर को सर्वोत्तम स्थिति में रहने के लिए पर्याप्त परिसंचरण की आवश्यकता होती है।

सूर्य नमस्कार यह सुनिश्चित करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है कि परिसंचरण स्वस्थ है। प्रतिरक्षा का समर्थन करता है हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत करके, किसी भी प्रकार के संक्रमण को रोकने के लिए विषाक्त पदार्थों को तंत्रिका तंत्र से दूर धकेल दिया जाता है। साथ ही, हमारे शरीर में संक्रमण को रोकने के लिए एक स्वस्थ प्रतिरक्षा बनाए रखने के लिए यह काफी फायदेमंद है।

इम्युनिटी बढ़ाता है (Surya Namaskar Ke Fayde)

इस योगासन के माध्यम से, आपके शरीर को हानिकारक पदार्थों से लड़ने के लिए आवश्यक एंटीऑक्सीडेंट लाभ प्राप्त होते हैं। अभ्यास आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए एक उत्कृष्ट संतुलन के रूप में कार्य करता है। इसमें विटामिन ए और सी और जिंक सहित ढेर सारे विटामिन होते हैं, जो कोशिकाओं को किसी भी प्रकार की सूजन से बचाने में मदद करते हैं। मधुमेह का इलाज करता है सूर्य नमस्कार आपके शरीर के लिए कई लाभों के साथ आता है।

अभ्यास रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में सहायता कर सकता है। इस उन्नत योग मुद्राओं को करने से आपके ग्लूकोज और इंसुलिन के स्तर में सुधार हो सकता है। टाइप 2 मधुमेह के इलाज में यह प्रक्रिया बहुत अच्छी तरह से काम करती है। जैसा कि आप उन तरीकों के बारे में अधिक जागरूक हो जाते हैं जिनसे आप इसका इलाज कर सकते हैं, आप परिणाम दिखने से पहले ही देख पाएंगे।

सहनशक्ति बनाता है

सूर्य नमस्कार एक जटिल योग अनुक्रम है जो हमें सहनशक्ति, सहनशक्ति बढ़ाने में मदद करता है जो हमें अपने जीवन के शारीरिक और मनोवैज्ञानिक तनाव को संभालने में सक्षम बनाता है। इस योग को करने के स्वास्थ्य लाभों को अपने आप में अधिक महत्व नहीं दिया जा सकता है। इस योग को करने से हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी सुधार होता है। लचीलापन बढ़ाता है पूरा शरीर लचीला होता है। उदाहरण के लिए, हमारे हाथ और पैर बहुत लचीले होते हैं।

हालांकि, अगर हम अपनी छाती, कंधों और पीठ की मांसपेशियों में खिंचाव करते हैं, तो इन मांसपेशियों का लचीलापन कम हो जाता है और सख्त हो जाता है। इस सरल योग क्रम को करने से रीढ़, कंधे, हाथ, पैर और उंगलियों के लचीलेपन में सुधार होगा। मांसपेशियों की टोन में सुधार करता है जब व्यायाम के दौरान शरीर को आराम मिलता है, तो शरीर की हर मांसपेशी में रक्त प्रवाहित होता है और पूरा शरीर शिथिल हो जाता है।

हृदय स्वास्थ्य में सुधार करता है (Surya Namaskar Ke Fayde)

सहनशक्ति में सुधार मांसपेशियों की शक्ति में वृद्धि रक्त परिसंचरण में वृद्धि चयापचय को रोकता है तनाव और तनाव से बचाता है शक्ति और सहनशक्ति बढ़ाता है मधुमेह के जोखिम को कम करता है तंत्रिका तंत्र को शांत करता है मांसपेशियों के दर्द को नियंत्रित करता है ऊर्जा के स्तर को बढ़ाता है यदि आप लंबे समय तक फिट रहना चाहते हैं, तो इस योग को आजमाएं क्रम: सूर्य नमस्कार। (Surya Namaskar Ke Fayde)

इससे आपको अपने स्वास्थ्य में सुधार करने और लंबे समय तक फिट रहने में मदद मिलेगी। यह योग क्रम आपकी मांसपेशियों को मजबूत करेगा और उन्हें स्वस्थ रखेगा। यह योग क्रम आपको पीछे की ओर झुकने और अपने कंधों को खोलने में भी मदद करेगा। इस योग क्रम में फुफ्फुस और अन्य जटिल गतियों के कारण आप लचीले और मजबूत बनेंगे। यह योग क्रम आपके संतुलन, समन्वय, चपलता और संतुलन में भी सुधार करेगा।

फेफड़ों की क्षमता बढ़ाता है

रक्त परिसंचरण में सुधार इंसुलिन संवेदनशीलता और कोलेस्ट्रॉल में सुधार परिसंचरण में सुधार उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा कर देता है एंटीऑक्सीडेंट स्तर बढ़ाता है चयापचय को आसान बनाता है जोड़ों के दर्द को आसान बनाता है मासिक धर्म दर्द को आसान बनाता है पाचन को आसान बनाता है इसमें विटामिन, खनिज और पोषक तत्व होते हैं एक संतुलित और स्वस्थ शरीर विकसित करता है। (Surya Namaskar Ke Fayde)

सूर्य नमस्कार के लिए सावधानियां आपको सूर्य नमस्कार का अभ्यास करना चाहिए इस आसन को नियमित रूप से करने से पहले, आपको अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहिए और मांसपेशियों के बढ़ने की चिंता नहीं करनी चाहिए। आपको इसे वैकल्पिक दिनों में करना चाहिए और अक्सर सूर्य नमस्कार करने से बचना चाहिए क्योंकि इससे थकान हो सकती है। घुटन से बचने के लिए सूर्य नमस्कार करते समय ठीक से सांस लें। अपने शरीर पर अधिक काम करने से बचने के लिए आपको प्रत्येक सेट के बीच में ब्रेक लेना चाहिए।

पाचन में सुधार करता है

सूर्य नमस्कार पाचन तंत्र से विषाक्त, हानिकारक पदार्थों के शरीर को शुद्ध करने में मदद करता है। जब हमारा शरीर सुस्त होता है, तो वह हमारे द्वारा खाए जाने वाले भोजन से पोषक तत्वों को अवशोषित करने में असमर्थ होता है। और यह, बदले में, सूजन और पाचन संबंधी परेशानी जैसी समस्याओं का कारण बनता है। मांसपेशियों को मजबूत बनाता है सूर्य नमस्कार की गर्म और शांत प्रकृति भी मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करती है। (Surya Namaskar Ke Fayde)

नियमित रूप से इसका अभ्यास करने से आपको वजन कम करने और फिट रहने में मदद मिल सकती है। मुद्रा में सुधार जब शरीर हानिकारक बाहरी परिस्थितियों के संपर्क में आता है, तो यह अक्सर एक भड़काऊ प्रतिक्रिया विकसित करना शुरू कर देता है। यह प्रदूषित हवा में सांस लेने, तैलीय या जंक फूड खाने के कारण हमारे शरीर में उत्पन्न होने वाले विषाक्त पदार्थों और कई अन्य कारकों के कारण हो सकता है।

आपको बेहतर नींद में मदद करता है

अधिकांश योग अनुक्रमों का प्राथमिक ध्यान आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार करना है। ऐसा करने का एक प्रमुख तरीका अच्छी नींद लेना है। सूर्य नमस्कार को आपकी मानसिक स्थिति में भी सुधार करने के लिए कहा गया है, अपने नियमित दैनिक योग मुद्राओं के बीच इन अद्भुत शारीरिक करतबों को करके। बेहतर पाचन का समर्थन करता है जब पाचन की बात आती है तो शरीर की सूजन आम है। (Surya Namaskar Ke Fayde) (Surya Namaskar Ke Fayde)

ये तकनीकें आपके जठरांत्र संबंधी मार्ग से विषाक्त पदार्थों और अवांछित रोगाणुओं को साफ करने में मदद करती हैं जिससे पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए यदि आप भोजन के बाद सूजन और अत्यधिक पेट फूलना और अक्सर होने वाले पेट दर्द से बचना चाहते हैं, तो इस तकनीक को आजमाएं। आंखों के अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने में आपकी मदद करता है क्या आप आंखों से संबंधित इन समस्याओं से पीड़ित हैं? आपको इस योग क्रम को आजमाना चाहिए।

निष्कर्ष

सूर्य की किरणें कैंसर और अन्य बीमारियों के लक्षणों और लक्षणों को कम करने में हमारी मदद कर सकती हैं। ये सौर यूवी किरणों के कारण हो सकते हैं जो कोलेजन को नुकसान पहुंचा सकते हैं और त्वचा और जोड़ों की गुणवत्ता को कम कर सकते हैं। इस प्रकार, लोगों को अच्छे स्वास्थ्य में रहने के लिए इसका विकल्प चुनना चाहिए।

Leave a Comment

%d bloggers like this: